Aarti Ati Pawan Puran Ki Lyrics (आरती अतिपावन पुराण की – आरती)

Aarti Title: Aarti Ati Pawan Puran Ki Lyrics in Hindi.

Aarti Ati Pawan Puran Ki Lyrics

Aarti Ati Pawan Puran Ki Lyrics

आरती अतिपावन पुराण की,
धर्म भक्ति विज्ञान खान की,
आरती अतिपावन पुराण की,
धर्म भक्ति विज्ञान खान की,

यह भी पढ़े: तुलसी माता की आरती


महापुराण भागवत निर्मल,
शुक-मुख-विगलित, निगम-कल्प-फल,
हा.. परमानन्द-सुधा रसमय फल,
लीला रति रस रसिनधान की,
आरती अतिपावन पुराण की,


कलिमल मथनि त्रिताप निवारिणी,
जन्म मृत्युमय भव भयहारिणी,
सेवत सतत सकल सुखकारिणी,
सुमहौषधि हरि चरित गान की,
आरती अतिपावन पुराण की,


विषय विलास विमोह विनाशिनी,
विमल विराग विवेक विकासिनी,
भगवत तत्व रहस्य प्रकाशिनी,
परम ज्योति परमात्म ज्ञान की,
आरती अतिपावन पुराण की,


परमहंस मुनि मन उल्लासिनी,
रसिक ह्रदय रस रास विलासिनी,
भुक्ति मुक्ति रति प्रेम सुदासिनी,
कथा अकिंचन प्रिय सुजान की,
आरती अतिपावन पुराण की,


॥इति Aarti Ati Pawan Puran Ki in Hindi सम्पूर्ण॥

Also Read this: श्री वेंकटेश आरती

Share it to someone:
Scroll to Top